मैं एक फर्द हूँ सफ़र का..

मैं एक फर्द हूँ सफ़र का..
खोकर बहुत कुछ,
कुछ तो पा लेता हूँ…
दर्द की बहती धुन में,
मन के मीत के गीत गुनगुना लेता हूँ…
साँसों के एहसान तले सफ़र तो थमेगा नहीं,
यही सोच हर कदम को मुकाम बना लेता हूँ…
धूल फांकती बैचैन सी ज़िन्दगी में
पानी की बरसती बूंदों से भीनी खुशबू बना लेता हूँ…
वक़्त बेवक़्त की गुस्ताखियों की आजमाइश अगर हो ज़्यादा,
महफ़िल ऐ शाम में कुछ छलकते जाम लगा लेता हूँ…
हर सुबह दे देती है मुझे,
खुशियों का भर के झोला,
शाम होते होते फिर गम भर लाता हूँ…
मैं एक फर्द हूँ सफर का…
पा कर बहुत कुछ,
कुछ तो खो देता हूँ।

to isme tera kya harz hai

वादे मेरे,

इरादे मेरे,

बदला तू, तो इसमें तेरा क्या हर्ज है

टूट गयी किस्मत,

बिखर गया इंतज़ार,

जो लुट गया मेरा शहर,

तो इसमें तेरा क्या हर्ज है

Vaade mere, Irade mere…. Badla tu, to isme tera kya harz hai
Toot gayi kismat, bikhar gaya intzar….
Jo lut gya mera shahar, to isme tera kya harz hai

Khaab

क्यूँ झाड़ू पलकों से इन्हें

ये ख्वाब हैं धूल नहीं

बह जाए एक सैलाब में ये

अब आँसुओं में भी इतना ज़ोर नहीं…

Mizaz ae Dil

मिज़ाज़ ऐ दिल बदलने लगा है

बात बारिश की ही तो है

कुछ बूंदें बेक़रार हैं

इन आँखों की दहलीज़ लांघने को….

#3

किन लम्हों को भूलूं किन्हे याद रखूं ये सोचता हूं अक्सर,

गर कुछ लम्हों ने सब कुछ दिया तो कुछ ने सब ले भी लिया…..

#2

“उम्मीदें इंसानों से नहीं सिर्फ़ तुझसे है…
ऐ ख़ुदा
जो रास्ता आता हो तेरी तरफ़ मुझे बस वहीं चला…
भीड़ से हो जाऊं अलग इसका कोई गम नहीं…
बस डर है इतना कि न हो जाऊं कहीं तुझसे जुदा…”

#1

उड़ते परिंदों के आशियाँ हवा में नहीं होते
समझिये,
वक्त वक्त की बात है कि जुबाँ पर जज्बात नहीं होते।